Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

Raj Kapoor Biography in Hindi राज कपूर की जीवनी & Wiki

Raj Kapoor Biography in Hindi | History & Wiki | राज कपूर के बारे में Information
Raj Kapoor Biography in Hindi
जन्म : 14 दिसंबर, 1924 को पेशावर (अब पाकिस्तान में)
मृत्यु : 2 जून 1988, नयी दिल्ली

राजकपूर को हिंदी सिनेमा के शोमैन के रूप में जाना जाता है. बॉलीवुड में उनके योगदान के लिए उनको दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया. राज कपूर हिंदी सिनेमा के विकास के लिए हमेशा तत्पर रहे.
राजकपूर मल्टी टैलेंटेड या कई प्रतिभाओं में धनि थे वे एक अभिनेता, निर्देशक और निर्माता भी थे. राज कपूर हिंदी सिनेमा के शोमैन के रूप में प्रसिद्ध है।

About Life, Birth & Family of Raj Kapoor राज कपूर का जीवन

राज कपूर 14 दिसंबर 1924 को एक शहर पेशावर (अब पाकिस्तान में) में पैदा हुआ थे. उनके पिता पृथ्वीराज कपूर एवं माता का नाम रामसरानी देवी कपूर था. उनके बचपन का नाम राज नहीं बल्कि रणबीर था इसी नाम से उनके पोते का नाम रखा गया.

कुछ साल बाद 1929 में राज कपूर के पिता पृथ्वीराज कपूर अपने परिवार सहित पेशावर छोड़ कर मुंबई आगये. पृथ्वीराज कपूर खुद एक जाने-माने अभिनेता थे. राज कपूर चार बच्चों के ज्येष्ठ थे. उनके अन्य दो भाई शम्मी कपूर और शशि कपूर भी जाने-माने अभिनेता हैं।

Other Biography in Hindi:
Dilip Kumar History in Hindi

JayaLalitha History in Hindi

Career of Raj Kapoor | Raj Kapoor Movies राज कपूर का फिल्मी सफ़र:

राज कपूर ने एक clap Boy और केदार शर्मा के असिस्टेंट के रूप में अपना कैरियर शुरू किया। सन् 1935 में, ग्यारह वर्ष की आयु में राज कपूर अपनी पहली फिल्म इंकलाब में काम किया था.

1946 में राज कपूर कृष्णा मल्होत्रा से शादी कर ली। राज कपूर को बड़ा ब्रेक 1947 में मिला जब उन्होंने केदार शर्मा द्वारा निर्देशित फिल्म नील कमल, में अग्रणी भूमिका निभाई। 1948 में, चौबीस साल की उम्र में राज कपूर ने अपने स्टूडियो आर के फिल्म्स की स्थापना की, और अपने समय के सबसे कम उम्र के फिल्म निर्देशक बन गए। एक निर्देशक के रूप में उनकी पहली फिल्म आग थी. फिल्म सफल थी।

इसके बाद राज कपूर ने कई फिल्मों का निर्देशन किया। उनमें से ज्यादातर में उन्होंने खुद अभिनय भी किया। राज कपूर द्वारा निर्देशित प्रसिद्ध फिल्मों में से कुछ बरसात (1949), आवारा (1951), श्री 420 (1955), और संगम (1964) हैं। उन्होंने नरगिस के साथ एक हिट जोड़ी का गठन किया। राज कपूर अपनी फिल्मों में आम आदमी की कहानी चित्रित की है और उनकी फिल्में समाज के हर वर्ग को पसंद आती है. कपूर परिवार में होली का पर्व बहुत धूम धाम से मनाया जाता है और बड़ी फ़िल्मी हस्तियां उसमे सम्मिलित होती थी. और एक दुसरे को होली की बधाई (Holi SMS in Hindi) देते थे एवं गाने गाते थे.

राज कपूर संगीत की महान भावना थी और उनकी फिल्मों का संगीत केवल भारत में ही नहीं बल्कि रूस जैसे देशों में भी बहुत लोकप्रिय था। फिल्म इतिहासकार राज कपूर को “भारतीय चार्ली चैपलिन” के रूप में चित्रित करते है. क्योकि उन्होंने फिल्मो में अक्सर ऐसी भूमिकाये निभाई जो एक आवारा, जो विपरीत परिस्थितियों के बावजूद, अभी भी हंसमुख और ईमानदार है ।

1970 में अपनी महत्वाकांक्षी फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ के जबर्दस्त फ्लॉप होने के बाद, राज कपूर ने अपनी फिल्मों को वासना की ओर एक मोड़ दे दिया . 1973 में राज कपूर ने ‘बॉबी’ फिल्म बनायीं जिससे भारतीय सिनेमा में किशोर रोमांस की प्रवृत्ति शुरू कर दी गयी. उन्होंने बॉबी में ‘डिंपल कपाड़िया’ को हेरोइन लांच किया जो बाद में एक स्टार बन गयी. इस फिल्म में डिंपल कपाड़िया को बिकनी में दिखाया जो उस समय के समाज के हिसाब से एक बोल्ड सीन था.

उन्होंने आगे सत्यम शिवम सुंदरम (1978) और राम तेरी गंगा मैली (1985) की तरह अपने अन्य फिल्मों में कामुकता की सीमाओं को और पीछे कर दिया। राज कपूर की फिल्म सामाजिक संदेश भी ले कर आई. उदाहरण के लिए, उनकी फिल्म प्रेमरोग Premrog (1982) में विधवा पुनर्विवाह की वकालत की गयी ।

ये जीवनिया भी पढ़े:
Amitabh Bachchan ki Jeevni

Kishore Kumar History in Hindi

Awards राज कपूर को सम्मान :

सिनेमा के लिए राज कपूर ने अपार योगदान किया और उनकी इन उपलब्धियों के लिए उन्हें कई बार सम्मानित किया गया था। हिंदी में सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म के लिए दो राष्ट्रीय पुरस्कार और 11 फिल्मफेयर पुरस्कार जीतने के साथ साथ कई और भी अवार्ड जीते. भारत सरकार द्वारा 1971 में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। भारतीय सिनेमा में उनके योगदान के राज कपूर 1987 में दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया.उनके सम्मान में, उनकी फोटो का एक डाक टिकट 2001 में भारतीय डाक सेवा के द्वारा जारी किया गया था।

Death of Raj Kapoor / राज कपूर की मृत्यु

अस्थमा से संबंधित बीमारियों के कारण उनका 2 जून 1988 को निधन हो गया। उनकी मृत्यु के समय वह फिल्म हिना पर काम कर रहे थे. यह फिल्म एक भारतीय लड़के और पाकिस्तानी लड़की के बीच एक प्रेम कहानी पर आधारित है. बाद में उनके बेटे रणधीर कपूर द्वारा इस फिल्म को पूरा किया गया और यह सफल भी रही.

Dear Reader,

कृपया १ minute का समय दीजिये!

हम इस ब्लॉग को और भी बेहतर बनाना चाहते है आप अपनी पसंद के व्यक्तियों के बारे में हमें लिखे जिनकी जीवनिया biography आप पढना चाहते है.

आपको यह post about Raj Kapoor Biography in Hindi | Raj Kapoor History & Profile के बारे में information जानकारी कैसी लगी कृपया कमेंट करके हमें बय्तैये और इसे सोशल नेटवर्क्स जैसे फेसबुक, ट्विटर पे भी शेयर कर सकते है.
अगर आपको Raj Kapoor Biography in Hindi के इस पेज में कोई गलती लगे तो हमें कमेंट करके जरूर बताइए.
Thanks

Raj Dixit

दोस्तों मै Hindi-Quotes.in का admin हूँ अगर आपको यह ब्लॉग पसंद आया हो तो फेसबुक पेज LIKE करे और आप comments भी करें. आपका feedback हमारे लिए बहुत आवश्यक है. ThanksRaj Dixit G+: https://goo.gl/bco7ez

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *