Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

दिवाली पर्व 2018 – Essay on Diwali in Hindi

Essay on Diwali in Hindi in 250 words / दिवाली पर निबंध (दीपावली) – दोस्तों भारत में दिवाली का पर्व आने वाला है . इस साल Diwali date 2018 – 07 November 2018 बुधवार को है. हमें Diwali festival का काफी समय पहले से इंतज़ार रहता है.

Essay on Diwali in Hindi

यह उत्सव / festival हम लोग बहुत ही धूम धाम से मानते है. दिवाली के 2 दिन पहले धनतेरस और 2 दिन बाद भाई दूज का त्यौहार होता है, इसलिए यह त्यौहार 5 दिन का लम्बा उत्सव (Diwali long holiday festival) होता है. लोग leaves लेकर अपने मातापिता और अपने पैत्रक निवास जाते है और वह इसको मनाते है. इन्ही 5 दिनों में सबसे ज्यादा लोग shopping यानि खरीददारी करते है, इसलिए business के लिए भी बहुत important है.

 

दिवाली का अर्थ और महत्त्व – Short Essay on Diwali in Hindi 

Diwali Story/ दीपावली की कहानी : आप रामायण की कहानी (Ramayana ki Kahani) जानते ही होंगे, रामायण में भगवान राम (Lord Rama) की पत्नी सीता को लंका का राजा राक्षस रावन उठा ले गया था. और सीता से विवाह करना चाहता था जिसके कारण उससे सीटो को लंका में बंदी बनाकर रखा था. उसके बाद भगवान श्री राम अपने भाई लक्षमण के साथ सीता की ख़ोज में निकले तब उनको रास्ते में वनरो का सहयोग प्राप्त हुवा और उन्होंने वनरो की सेना बनाकर रावन का वध किया.

रावन का वध जिस दिन हुवा था उस दिन को भारत में विजयादशमी या Dussehra के नाम से मानते है. रावन को मरने के बाद श्री राम जी को अपनी नगरी अयोध्या आने में २० दिन लगे थे जिस दिन वो अयोध्या आये उस दिन को भारत में दीपावली या Diwali के पर्व के रूप में धूम धाम से मानते है.

दिवाली का त्यौहार भारत के साथ साथ नेपाल, श्री लनक्स, म्यांमार, मॉरिशस, गुयाना, मलेशिया, सिंगापूर, फ़िजी, पाकिस्तान में बहुत ही व्यापक रूप में मनाया जाता है.

अन्य देशों में दीपावली का प्रचलन / Diwali Festival Outside India

भारत देश त्योहारों का देश है परंतु दीपावली (Deepawali) खास स्थान रखता है. दीपावली भारत की परंपरा और कल्चर दिखाता है दीपावली अयोध्या के राजा भगवान राम के 14 वर्ष वनवास पूरा करने के बाद अयोध्या में कदम रखने की खुशी पर मनाया जाता है. पर यह त्यौहार भारत में नहीं भारत से बाहर भी कई देशों में भी मनाने जाने लगा है . भारत के कोने कोने पर भारतीय बसे हुए हैं. वहां पर दीपावली धीरे-धीरे कई देशों तक पहुंच गया है जिसे वहां के लोग अपने अपने तरीके से मनाने लगे हैं.

भारत के अलावा अन्य बाहरी देशों में भी दीपावली के दिन जगह जगह  मेले और जश्न का माहौल होता है यहां लोग दीपावली की तैयारी पहले से ही करने लगते हैं. यह बड़े ही गर्व की बात है कि भारत देश की पहचान रखने वाला त्योहार दीपावली अब हर देश में अपनी जगह बनाने लगा हैऔर अपनी छाप छोड़ रहा है.

दीपावली के त्यौहार में कई देश तो सरकारी अवकाश भी रखने लगे हैं जैसे कि श्रीलंका में यूनान, मारीशस, मयांमार, युनान,  त्रिनिदाद और टोबैगो , सूरीनाम, मलेशिया सिंगापुर  , फिजी , पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, नीदरलैंड, ब्रिटेन संयुक्त अरब अमीरात संयुक्त राज्य अमेरिका  आदि दिवाली मनाने वाले देशों की संख्या धीरे-धीरे बढ़ रही हैं.

हमारे देश का प्रमुख त्यौहार दीपावली कई देशों की संस्कृति का हिस्सा बनते जा रहा है 2003 में दीपावली को व्हाइट हाउस में पहली बार मनाया गया. वहां के राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने दीपावली व्हाइट हाउस में मनाया .दीपावली सेलिब्रेट करने वाले अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा पहले राष्ट्रपति हैं.

 विदेशों में दीपावली का त्यौहार कैसे मनाते हैं?

अन्य देशों की तरह ब्रिटेन में भी दीपावली बहुत ही धूमधाम और उत्साह से मनाया जाने वाला त्यौहार है. ब्रिटेन में कई ऐसे हिंदू मंदिर है जहां दीपावली बहुत खास तरीके से मनाया जाता है. ब्रिटेन के पुर्व प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और उनकी पत्नी ने दिवाली ब्रिटेन के स्वामीनारायण मंदिर में हजारों भक्तों के साथ मनाई थी. 2009 से लेकर आज तक हर साल प्रधानमंत्री निवास में  दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है.

दुनिया में अगर दीपावली त्योहार को भारत देश के अलावा बहुत ही जश्न और धूमधाम से मनाया जाता है. तो वह ग्रेट ब्रिटेन का लिसेस्टर शहर यहां हमारे देश की तरह ही लोग रात को दिए जलाते हैं. पटाखे फोड़ते हैं और मिठाइयां बांटते हैं यहां के लोग रोड पर निकलकर पटाखे फोड़ते और सेलिब्रेट करते हैं.

न्यूजीलैंड में भी प्रवासी भारतीयों को 2003 के बाद दीपावली मनाने की आधिकारिक मान्यता दे दी गई है.

फिजी में भी भारत की तरह ही दीपावली बड़े ही शान के साथ मनाया जाता है. इस दिन यहां सरकारी छुट्टी होती है. फिजी में भी हिंदुओं की तरह ही पूजा-पाठ आतिशबाजी और मिठाइयों का लेन-देन किया जाता है.

अफ्रीकी देश मॉरीशस में हिंदू बहुसंख्यक है इसलिए यहां दीपावली के दिन सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की जाती है. इस दिन यहां दीपावली पूरे हिंदू रीति रिवाज से मनाया जाता है.

कनाडा दीपावली के त्यौहार को मनाने से अछूता नहीं है. यह बहुत ही रोचक है कि कनाडा की पापुलेशन 3 करोड़ 66 लाख है जहां 10 लाख से ज्यादा भारतीय रहते हैं और इनमें पांच लाख से ज्यादा हिंदू है कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रूडो ने भी भारतीयों के इस त्यौहार को अपना लिया है.

मलेशिया में दीपावली मनाने का अपना ही अलग ढंग है. मलेशिया में ग्रीन दीपावली या फिर हरि दीपावली के रूप में मनाया जाता है. दीपों और रौशनी का यह त्यौहार यहां पूरे देश में धूमधाम और उत्साह के साथ मनाया जाता है और यहां पर इको फ्रेंडली पटाखे जलाए जाते हैं .

श्रीलंका में दीपावली को पूरे 5 दिनों तक पूरे धार्मिक रीति-रिवाज के साथ मनाया जाता है. सिंगापुर में दीपावली के दिन पब्लिक हॉलिडे होता है और इस दिन यहां के लोग घरों को रंग-बिरंगे फूलों और लाइटों से सजाते हैं.

हमारे देश में दीपावली का त्यौहार जगमगाते हुए दीपक प्रकाश स्वादिष्ट मिठाइयों का आनंद लेकर मनाते हैं यह त्यौहार भारत और देश के बाहर भी वर्षों पहले से मनाया जा रहा है दीपावली मनाने की परंपरा कब की है यह नहीं कहा जा सकता क्योंकि दीपावली मनाने की परंपरा हमारे इतिहास से भी पुरानी है

What is Dhanteras 2018 Date / धनतेरस क्या है & कब है ?

दिवाली के पहले धनतेरस की पूजा का महत्व – Importance of Dhanteras 2018

धनतेरस  के दिन भगवान धनवंतरी का जन्म हुवा था. समुद्र मंथन के समय भगवान धनवंतरी एक हाथ में अमृत कलश और एक हाथ में आयुर्वेद लेकर अवतरित हुए थे । इसलिए इनको आयुर्वेद / दवाओं  का पिता भी कहता है। इसी दिन धनवंत्री जयंती मनाई जाती है और धनतेरस को धन्त्रोदशी भी कहते है. धन का अर्थ है Money/ wealth / Rupees  है &  त्रौदशी का अर्थ  है 10 + 3 = 13 तेरहवां दिन.

धन्त्रियोदशी जिसे धनतेरस भी कहा जाता है, दिवाली उत्सव के पांच दिन लंबे समय का पहला दिन है। धनतेरस के दिन, देवी लक्ष्मी सागर के मंथन के दौरान समुद्र से बाहर आईं। इसलिए, भगवान कुबेर (जो धन का देवता है) के साथ देवी लक्ष्मी जी की पूजा त्रयोदशी या धनतेरस के शुभ दिन पर की जाती है। हालांकि, धनतेरस के दो दिनों के बाद अमावस्या पर लक्ष्मी पूजा को और अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है।

धनतेरस के दिन धन और स्वास्थ्य के भगवान धन्वंतरी की पूजा की जाति है। इसका अर्थ यह हुआ की मनुष्य के लिए धन और स्वास्थ्य सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है. इस दिन लोग सोने और चांदी की चीज़े  खरीदते है और कुबेर देवता की पूजा की जाती है। इस दिन धातु से बनी चीज़े खरीदना शुभ माना जाता है। कहते है इस दिन कुबेर और धन्वन्तरी की पूजा करने से भाग्य में १३ गुना वृद्धि होती है. व्यवसायी लोगो के लिए इस दिन का बड़ा महत्त्व है। ये लोग अपने ग्राहकों के लिए उपहार आदि देते है और लक्ष्मी पूजा से धन एवं समृधि  का आवाहन करते हैं।

धनतेरस या धन्त्रियोदशी पर लक्ष्मी पूजा प्रदोस काल के दौरान की जानी चाहिए जो सूर्यास्त के बाद शुरू होती है और लगभग 2 घंटे और 24 मिनट तक चलती है। इस साल भारत में धनतेरस Monday, 05 November 2018 सोमवार  के दिन मनाई जाएगी.

अब आपको इस साल 2018 में धनतेरस की पूजा महूर्त और विधि क्या है यह बताते है –

Dhanteras 2018 - Puja Vidhi, Mahurat, Timing Details for Diwali in Hindi

धनतेरस 2018 पूजा विधी , मुहूर्त & सामग्री Pooja Vidhi, Items & Timing:

  • धनतेरस पूजा मुहूर्त = 18:05 से 20:01
  • अवधि = 1 घंटा 55 मिनट
  • प्रदोस काल = 17:29 से 20:07
  • वृषभ काल = 18:05 से 20:01

धनतेरस की पूजा की सामग्री (Items for Pooja):

  1. मिटटी का हाथी
  2. धनवंत्री  भगवान की फोटो
  3. पुष्प / फूल और तुलसी
  4. गंगाजल या पाइन वाला स्वच्छ पानी
  5. चांदी  या तांबे की चम्मच / अनच्मानी
  6. तांबे की प्लेट और लोटा
  7. हल्दी, चावला, चंदन, धूपबट्टी, अगबट्टी आदि
  8. अपन रीति के अनूसर और सामग्री बढ़ा सकते है.

धनतेरस में पूजा विधी (Pooja Vidhi / Dhanteras  Pooja kaise kare):

  1. स्वच्छ पानी से पूजा का स्थान धो ले और गंगाजल का छिडकाव करे.
  2. लकडी / लकड़ी के ऊँचे स्थान पर या सिंघासन पर  साफ़ लाल कपडा या भगवा कपडा बिछा दे.
  3. वहा पर धनवंतरारी भगवान और मिट्टी का हाथी की स्थापना करे.
  4. चांदी  या तांबे की चम्मच या अचमानी से जल  का आन्च्मन करे.
  5. भगवान धनवंतरी की तस्वीर में चंदन, हल्दी, चावल, पुष्प चढ़ाये,
  6. धन्वन्तरी और कुबेर पर ध्यान लगाये और अनकी पूजा करे
  7. मीठा का भोग चढ़ाये  और धुप बत्ती और दीपक जलाये.
  8. सबको प्रसाद दे.

Essay on Diwali in Hindi : Wikipedia

दिवाली के बाद दुसरे दिन भाई दूज (Bhai Dooj) मनाया जाता है. धनतेरस से लेकर भाईदूज तक यह त्यौहार भारत में 5 दिन का उत्सव होता है.

Dear Friends!

Aapko Essay on Diwali in Hindi  की यह जानकारी कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताइए.  अगर इसमें कही सुधर की जरूरत होतो भी हमें बताये. और इस पोस्ट को सोशल मीडिया फेसबुक, ट्विटर आदि पर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को भेजिए.. धन्यवाद

हमारे इस वेबसाइट के readers ko Diwali 2018 best wishes. Happy Dhanteras 2018 to All friends & family.

आप सभी को दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें. Wishing you Healthy, wealthy & pollution free festival of Diwali 2018.

Raj Dixit

दोस्तों मै Hindi-Quotes.in का admin हूँ अगर आपको यह ब्लॉग पसंद आया हो तो फेसबुक पेज LIKE करे और आप comments भी करें. आपका feedback हमारे लिए बहुत आवश्यक है. Thanks Raj Dixit G+: https://goo.gl/bco7ez

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *